उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Friday, June 5, 2009

प्यारु गढ़देश

बावन गढ़ु कू,
प्यारु गढ़देश,
जुग-जुग राजि रखि,
खोळि का गणेश,
हे खोळि का गणेश.....

वीर भड़ु की भूमि,
प्यारु गढ़देश,
देवभूमि तपोभूमि,
जख ब्रह्मा विष्णु महेश.
जुग-जुग राजि रखि,
खोळि का गणेश,
हे खोळि का गणेश.....

बावन गढ़ु कू,
प्यारु गढ़देश,
जख राज करिग्यन,
गढ़वाल नरेश,
जुग-जुग राजि रखि,
खोळि का गणेश,
हे खोळि का गणेश...

बावन गढ़ु कू,
प्यारु गढ़देश,
जौनसारी, गढ़वाली बोलि,
रौ रिवाज, परिवेश,
जुग-जुग राजि रखि,
खोळि का गणेश,
हे खोळि का गणेश...

बावन गढ़ु कू,
प्यारु गढ़देश,
बांज, बुरांश, देवदार,
डाडंयौं मा ढेस,
जुग-जुग राजि रखि,
खोळि का गणेश,
हे खोळि का गणेश...

बावन गढ़ु कू,
प्यारु गढ़देश,
जख नाचदा देवता,
भूत अर् खबेस,
जुग-जुग राजि रखि,
खोळि का गणेश,
हे खोळि का गणेश...

बावन गढ़ु कू,
प्यारु गढ़देश,
देवतों का धाम,
हरिद्वार ढेस,
जुग-जुग राजि रखि,
खोळि का गणेश,
हे खोळि का गणेश..

बावन गढ़ु कू,
प्यारु गढ़देश,
गंगा यमुना कू मैत,
वीर भड़ु कू देश,
जुग-जुग राजि रखि,
खोळि का गणेश,
हे खोळि का गणेश..

सर्वाधिकार सुरक्षित,उद्धरण, प्रकाशन के लिए कवि की अनुमति लेना वांछनीय है)
जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिग्यांसू"
ग्राम: बागी नौसा, पट्टी. चन्द्रबदनी,
टेहरी गढ़वाल-२४९१२२
4.6.2009