उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Monday, March 28, 2016

जब गढ़वाली साहित्यकार फ़ौज मा भर्ती ह्वेन

भीष्म कुकरेती
 
  ब्याळि  सुपिन मा  क्या दिख्दु बल सौब् गढ़वळि साहित्यकार फ़ौज मा काम करणा छन अर सौब तैं  ऊंका साहित्यिक काम से इ काम बंटे गे :
 
लीला दत्त कोटनाला - लार्ड रिप्पनक बड़ा लींण से लीला दत्त कोटनाला जी क प्रमोसन हूण इ वाळ च
 
योगेन्द्र पुरी - ' मिलिटरी मंदिरूं मा 'फूलकंडी 'लेकी ब्यणस्यरिक बिटेन स्याम तलक फूल पौन्चान्दन
अर मंदिरूं मा शशि शेखरा  नन्द 'पुष्पांजलि' चढान्दन 
 
भोला दत्त देवरानी - भोला दत्त देवरानी 'पाखा घसियारी ' क कट्यूँ घास फौजी घुडसाल तक सार्दन
 
सदा नन्द कुकरेती - 'गढवाळी ठाट 'मा सदा नन्द कुकरेती मेस मा स्वाळ-पक्वड़ पकौन्दन 
 
केशवा नन्द कैंथोला, बलदेव प्रसाद नौटियाल  अर गुणा नन्द पथिक फौज्युं तैं रामायण सुणान्दन त आदित्य राम दुधफुड़ी गीता पाठ करदन.
 
 सदानंद जखमोला अर सचिदानंद कांडपाल - सदानंद जखमोला अर सचिदानंद कांडपाल द्वी मिलिटरी मा हलकर छन अर मिलिटरी बेस से डिफेन्स मिनिस्ट्री मा रैबार पौन्चान्दन
 
भजन सिंह सिंह- भजन सिंह सिंह मिलिट्री ट्रेनिंग स्कूल मा 'सिंग नाद' स्टाइल का मोटिवेटर छन
 
शिवा नन्द पांडे - शिवा नन्द पांडे क काम च गाड गदनो मा मिलिटरी टेंटूं  मा दिवळ छिल या लालटेन से 'उज्यळि' करण  
 
डा भक्त दर्शन : डा भक्त दर्शन सेना मा हाई प्रोफाइल 'दिवंगत औफ़िसरूं' विधवों पेन्सन पट्टा क काम सम्बाल्दन।
 
डा शिव प्रसाद डबराल- डा शिव प्रसाद डबराल 'अलकनंदा घाटी ' मा मिलिटरी सर्वेयर छन
 
अबोध बंधु बहुगुणा :   टिट फॉर टैट ' रणनीति  का ब्युंत अनुसार  अबोध बंधु बहुगुणा तैं पाकिस्तान मा 'दैसत' फैलाणो पाकिस्तान भिजे गे.
उन बहुगुणा  अर रजनी कुकरेती क आपस मा 'व्याकरण ' कु जि  सिखाल क कारण मिलिटरी कोर्ट मा मुकदमा बि चलणु च
 
सुदामा प्रसाद प्रेमी - सुदामा प्रसाद प्रेमी स्टोर मा ज्वा बि 'अग्याळ ' आन्द वांको हिसाब किताब दिखदन.   
 
चक्रधर बहुगुणा - बहुगुणा जी मिलिटरी बैंडमा 'मोछंग' बजांदन
 
रघुवीर सिंह रावत - रघुवीर सिंह रावत मिलटरी का 'गुठ्यारो' मोंळ ओ पतरोळ छन  
 
घनश्याम रतूड़ी - . घनश्याम रतूड़ी 'चोला बदल' का एक्सपर्ट माने जान्दन त यूनीफ़ॉर्म विभाग मा दर्जी बण्या छन
 
कन्हया लाल डंडरियाल- कन्हया लाल डंडरियाल जी राशन ऑफिस मा छन अर 'अन्ज्वाळ'इन इ किचन वालूं तैं राशन भौरिक दींदन.
कन्हया लाल डंडरियाल जीन कथगा इ कोशिश कार कि ए साल उंकी पोस्टिंग सिविल एरिया मा ह्व़े जाओ त ह्युन्दो मैनौं
'कीडू ब्व़े' तैं गाँ से भट्यावन. पण ए साल बि साब लोगूँ न कन्हया लाल डंडरियाल जी तैं 'चुसणा' दिखै द्याई.
 
धर्मा नन्द उनियाल- धर्मा नन्द उनियाल मिलिटरी बग्वानूं मा 'हिसर, किनगोड़ अर काफळ' ऊँ बुट्या काटदन
 
गोविन्द चातक - गोविन्द चातक बि मिलिटरी बग्वानूं मा ' फूल पति' छंड्यार्दन
 
गिरधारी लाल कंकाल - गिरधारी लाल जी तैं बिल्डिंगऊँ पंछी भगाणो काम मिल्युं च त 'फुर्र 'घिंडुड़ी बोलिक कवा, करैं भगाणा रौंदन.
दगड मा भगवती चरण निर्मोही क काम बि 'हिलांस' जन पंछी भगाणो च बल.
 
दुर्गा प्रसाद घिल्डियाल - दुर्गा प्रसाद घिल्डियाल तैं रेजिडेंसियल क्वार्टरूं मा 'म्वारि'यूँ जळम्वट साफ करणो काम मिल्युं च पण रोज शिकैत आणा नि इ रौंदन बल
दुर्गा प्रसाद घिल्डियाल जी दूसरों 'ब्वारी' यूँ पर 'गारी' मारणा रौंदन.
 
भगवती प्रसाद जोशी हिमवंतवासी - बडी कोशिश अर सिफारिश से भगवती प्रसाद जोशी हिमवंतवासी तैं हिरदय राम मास्टर की जगा पर मास्टरगिरी मीली गे
सुरेन्द्र पौल- सुरेन्द्र पौल बि डंडरियाल जी दगड राशन स्टोर मा छन अर 'चुंगटि' न नापिक मसाला दीन्दन.
 
 
 गोकुला नन्द किमोठी: लापता सैनिक विभाग मा सैनिकुं पितरूं रैबार अखब़ारूं मा छपवाणो काम करदन
 
ललित केशवान: ललित केशवान मिलट्री गार्डनूं मा 'खिल्दा पात अर हंसदा फूलूं ' की कट्टिंग करदन.
 
प्रेम लाल भट्ट - साब लोगूँ क पुटक पर 'कुतघळी' दीण से साब लोग खुश छन अर अब  भट्ट जी तैं क्वी 'उर्ख्यलै घाण जन नि कुटदो' .
 
जीत सिंह नेगी- जीत सिंह नेगी नै नै भर्ती हुईं सूबेदारनि 'वीरा ' क दगड ' उचि-निसि डांड्यू ' सर्वे करदन .
 
चन्द्र सिंग राही - चन्द्र सिंग राही जी मिलिटरी बैंड मा 'रण सिंगा ' बाजंदन
 
पाराशर गौड़ - पाराशर गौड़ मिलिटरी फिलम पब्लिसिटी मा छन अर बीसेक सालुं से 'जग्वाळ' मा छन बल कै दिन त 'क्वी चक्र'
मीलल
 
योगेश्वर प्रसाद पांथरी- पैल गढ़वाल राइफल मा राइफल मैन छ्या पण 'गढ़वाल राइफल ' किताब मा टाइपिंग मिस्टेक से कुछ गलत घटना छपणो छ्वटो सी जुरम मा
पंथारी जी क ट्रांसफर लैंसडाउन से कोटद्वार ह्व़े गे. हालांकि सौब तैं पता बि च बल टाइपिंग मिस्टेक स्वरुप ढौंडियाल जी कि छे, पण ढौंडियाल जी पी.एम्.ओ.
मा मिलिटरी पर्सनल डिपार्टमेंट मा हूण से बची गेन
 
राजेन्द्र धष्माना - राजेन्द्र धष्माना  'अर्ध ग्रामेस्वर '  सिपैयुं तैं लेफ्ट-राइट लेफ्ट-राइट  परेड करान्दन
 
नेत्र सिंग असवाल - बगैर अपण साब से पुछ्याँ अर नियम विरुद्ध नेत्र सिंग असवाल जीन कै 'ढांगा से साक्षात्कार ' कार बल त नेत्र सिंग असवाल तैं नौकरी से बर्खास्त करे गे
 
शेर सिंह गढ़ देसी- शेर सिंह गढ़ देसी न फांस कविता छपाई त सेना मा निरसा फैल़ाणा जुर्म मा सस्पेंड छन
 
कुला नन्द भारतीय - कुला नन्द भारतीय नाई क काम करदन अर स्ब्युं तैं 'डौळया ' बणान्दन
 
नित्या नन्द मैठाणी- ऑल इंडिया रेडिओ मा फौजी प्रोग्राम इ दीन्दन
 
 प्रताप शिखर - प्रताप शिखर चैना बोर्डर पर मिलिटरी हवामान विभाग मा छन अर ऊं मा एकी काम च , दूरबीन लेकी इ दिखण कि 'कुरेड़ी फ़टी ' गे कि ना
 
जग्गू नौटियाल: जग्गू नौटियाल टियर गैस फैक्टरी  मा टियर गैस प्रोडक्सन मा काम करदा छया अर अब रिटायर हूणो बाद अपण 'सम्लौण'
पर काम करणा छन.   
 
भीष्म कुकरेती: फील्ड मार्शल भगवती प्रसाद नौटियाल तैं गाळि भ्वरीं चिट्ठी लिखणो दंड मा भीष्म कुकरेती क कोर्ट मार्शल हुयुं च
अर यांको बजै से भीष्म कुकरेती से भौत सा जूनियर साहित्यकारूं तैं पचास हजारी मैडल मील पण भीष्म कुकरेती तैं मेडल नि मील त
भीष्म कुकरेती पर 'कबलाट' की बीमारी लगीँ च
 
डा. नन्द  किशोर ढौंडियाल :   ' गढ़वाली  व्यंजन' किताब क कारण  डा. नन्द किशोर ढौंडियाल मिलटरी मेस मा रूटळ पकान्दन.
 
 डा. मनोरमा ढौंडियाळ अर धनेश कोठारी : डा मनोरमा ढौंडियाळ  जु बि फौजी डौर जांद वैमा  गढ़वळी मंतर पौढीक रख्वळी करदन अर
दगड मा धनेश कोठारी बखर या कुखुड़   मारद दें 'ज्यून्दाळ'  डालदन .
 
वीना पाणी जोशी : वीना पाणी जोशी बि मिलटरी गार्डन मा काम करदिन अर कथगा इ दैञ बुरासुं पर पिठै लगाणो जुरम मा मिलिटरी से ससपेंड बि ह्व़ेन
 
बीना बेंजवाळ: बीना बेंजवाळ को काम च फौजी बिल्डिंगूं क दिवाल 'कमेड़ा' से लिपण.  अर  जरोरात पोड़ी गे त 'कमेड़ा क आखारूं  न देश भक्ति का
सन्देश दिवालुं पर लिखण .  
 
 पूरण पंत पथिक- पूरण पंत को काम च मिलिटरी मेस मा जवानु तैं खाणक खाणो, चाय पीणो बान 'गढ़वाळी मा धाई' लगाण 
 
मदन डुकलाण :  मदन डुकलाण मिलिटरी पोस्ट औफ़िस मा फौज्युं 'चिट्ठी -पतरी ' छंट्याणो काम कर्रदन
 
इश्वरी प्रसाद उनियाल अर विमल नेगी : इश्वरी प्रसाद उनियाल दुश्मन देस मा अपण जासुसुं रन्त रैबार लांदन त विमल नेगी दुश्मन देस मा
 गलत खबर सार याने कि र्यूमर   फैलान्दन
चक्रधर कुकरेती - चक्रधर कुकरेती अच्काल सस्पेंड छन. कुकरेती वंशावली मां चक्रधर कुकरेती न जसपुरों बहुगुणो वन्सावाली बि छापी दे.
अबोध बंधु बहुगुणा न मुकदमा कार बल बहुगुणा बन्सावली छापणो एकाधिकार बहुगुणो तै इ च ना कि कै कुकरेती तैं त अबोध जी मुकदमा जीति गेन.
एक हैंक मुकदमा राम प्रसाद बहुगुणा न कार बल जब हम मथि मुल्क्यों न बहुगुणा बन्सावली मा सल़ाणी बहुगुणो नाम नि छाप त चक्रधर कुकरेती
तैं क्वी अधिकार नि छयो कि वो सलाणी बहुगुणो क बन्सावली छापन. चक्रधर जी यू मुकदमा बि हारी गेन अर सस्पेंड ह्व़े गेन. उना कोटद्वार का ढाण्गळ
का कुकरेती अलग नाराज छन कि चक्रधर कुकरेती न जसपुर का कुकरेत्युं दगड बहुगुणा वंशावली त खूब छाप पण ढाण्गळक कुकरेत्युं वन्सावळी नि छाप.
विचारा चक्रधर जी ! ना मुंडित का रैन ना गाँव का
 
लोकेश नवानी- लोकेश नवानी क काम च जवानुं कपड़ा 'फंची '  भौरिक  धोबी घाट लिजाण अर लाण. ऊँ लोकेश जी काम धोब्यूँ तैं 'धाद' लगाणो बि च
 
नरेंद्र सिंह नेगी: नरेंद्र सिंह नेगी डाइटिंग अर  हेल्थ मेंटेनेंस डिपार्टमेंट मा हरेक जवान तैं बथान्दन बल " कथगा खैलि !"
 
बी. मोहन नेगी: बी. मोहन नेगी दुश्मन जासुसुं (जौंक फोटो उपलब्ध नि ह्वाऊ) क फोटो बणान्दन
 
जयपाल सिंह रावत : जयपाल सिंह रावत मिलटरी पेस्ट कंट्रोल विभाग मा  छिपडु, किदलु, मूस जन कीड़ मक्वड़ भगांदन
 
बिहारी लाल जालंधरी : बिहारी लाल जालंधरी चाइना बोर्डर पर साउंड डिटेक्टर छन अर इन पता लगान्दन बल पल्तिर चीनी रडार 'गढ़वाळी या कुमाउंनी ध्वनि'
पकड़द छन कि ना   
.
हरिश जुयाल : मिलिटरी हौस्पिटल मा जब बि मरीजुं की 'उकताट' बढ़दि हरीश जुयाल तें 'खिग्ताट 'कौरिक म्रीजुन बीमारी ठीक करण पड़द.
 
ओम प्रकाश सेमवाल -   कै बि बड़ो असरदार औफ़िसरऊँ फूफुं  तैं 'मेरी पुफु' बोलिक प्रमोसन पर प्रमोसन लीणा छन
 
उमा भट्ट - उमा भट्ट मिलिटरी स्कूल मा टीचर छे पण कै टी.वी रिपोर्टर बड़चोदन  स्टिंग ओप्रेसन कार बल उमा भट्ट  तैं 'द्वी आखर' से जादा नि आन्द त
अच्काल उमा भट्ट नौकरी से सस्पेंड च  .
 
दर्शन सिंह बिष्ट- . दर्शन सिंह बिष्ट भारत- नेपाल 'केर' (बौर्डर) पर बिजली विभाग मा काम करदन.
 
गिरीश सुंदरियाल-  गिरीश सुंदरियाल दुश्मन जासुसुं 'अन्वार' पछ्यणो विभाग मा छन
 
वीरेंद्र पंवार - मिलिटरी रिसर्च विंग मा ह्युन्दों मा 'कन कैक वसंत आलो' क खोज मा ल्ग्याँ छन.
 
शांति प्रकाश 'जिज्ञासु' -  शांति प्रकाश 'जिज्ञासु' न इंटरव्यू दियुं च अर 'आस' मा छन कि अप्वाइंटमेंट लेटर जल्दी इ आलो.
 
तोताराम ढौंडियाल - जब कबि मिलिटरी क्वार्टरूं मा कैक ब्या ह्वाओ त तोताराम ढौंडियाल  जबरदस्ती  ' गढ़वाळी मांगळ ' लगंदन .
साब लोग ऊंका ट्रांसफर करण चाणा छन पण साब लोगूँ समज मा इ नि आणो च बल तोताराम ढौंडियाल जी  तैं 'गाव या शहर' मादे
कख भिजे जाओ.  
डा.दाता राम पुरोहित: डा.दाता राम पुरोहित मिलिटरी ऑफिसरूं तैं 'चक्रव्यूह', 'गरुड़ व्यूह' जन वार स्ट्रेटिजी सिखान्दन अर कबि कबि डेप्युटेसन मा
जर्मनी बि जान्दन
 
.नरेंद्र कठैत - मेस मा 'पाणी ' भरदन  
 
देवेश जोशी - देवेश जोशी हवामान विभाग मा 'घाम, पाणि , छैल'  क हिसाब रिकार्ड करदन  
 
डा. अचला नन्द जखमोला - 'कोष विधा' का लिख्वार'  डा. अचला नन्द जखमोला अच्काल
गढ़वाळी आलोचना का फील्ड मार्शल भगवती प्रसाद नौटियाल बिटेन 'गढ़वाली मा हिंदी कन पुच्याण'
की ट्रेनिंग लीणा छन.
 
दीन दयाल बलुणी - साब लोग 'घंघतोळ मा छन बल बलुणी जी तैं बोर्डर पर रखे जाओ या बैक ऑफिस मा !
 
डा नरेंद्र गौनियाल- डा गौनियाल मिलिटरी रूस्वड़ बिटेन भैर इ नि आन्दन किलैकि उंकी 'धीत' इ भोर्यांदी 
संदीप रावत -लोकभाषा बाना  'विकास जात्रा ' पर जयां छन। 
दीनदयाल सुन्द्रियाल तैं 'बिसर्याँ बाटा का बिर्ड्यां मनिखों ' तैं बाटो बताणो काम मिल्युं च। 
महेशानन्द तैं 'डडवार' लाणो काम मिल छौ पर ऊंन हड़ताल कर दे कि अब डडवार लीण गुनाह च तो साब लोगुंन मेह्शानन्द का कोर्ट मार्शल कर दे। 
कैलाश बहुखंडी तै बार बार 'गाँव की याद '  आदि छे तो बहुखंडी जी तै रिटायर करिक भाभर भिजे गए। 
शिवदयाल शैलेज तै 'एक दबाल ' चणा बँटणो काम मिल्युं च। 
जगमोहन बिष्ट भौत 'कर्च कबर्च ' करदा छा तो ऊँ तैं गाँव निर्वासित करे गए  . 
ओम बधाणी तै देहरादून से उत्तरकाशी ट्रांसफर करे गे कि 'कुरमुरी ' लगदी जावो 
 
गीतेश नेगी , जयारा जी, जेठुरी जी , बाल कृष्ण ध्यानी - गीतेश नेगी , जयारा जी, जेठुरी जी , बाल कृष्ण ध्यानी जी आद्युंन
 
 इन्टरनेट स्पेसोग्रैफी क इम्तान त पास कौरी आल अब टेरीटोरियल एडमिनिस्ट्रेसन मा  कमीसन/रिकोग्निसन  कि जग्वाळ मा छन .
 
 ब्रिजेंदर कुमार नेगी - ब्रिजेंदर कुमार नेगी क्या सुन्दर बैक ऑफिस मा छया एक दिन 'उमाळ' मा ऐक गौन्त्या (टूर  वल़ू जॉब) विभाग मा ट्रांसफर ल्हें ल्याई  
 
दिनेश ध्यानी- दिनेश ध्यानी तैं  हमेशा बांजै  धार  मा  निगरानी काम दिए जांद. जब की ध्यानी जी तैं  काम करद दें ' गंगा जी का जौ' दिखण  पसंद च .  
 

   विपिन पंवार तैं मिलिटरी मा भर्ती नि  ह्व़े साक बल जु क्वी सम्राट ह्वाऊ ट वैक आर्मी मा क्या काम?