उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Sunday, May 29, 2011

गढ़वाली कविता : गंडेल

गढ़वाली कविता : गंडेल

वे थेय नी च अब डैर
कैकी भी
ना पटवरी की
ना प्रधनौं की
ना पंचेत -प्रमुखौं की
न मंत्रियुं की
ना बड़ा बड़ा साब संतरियूँ की
किल्लेय की सब दगडिया छीं वेक्का
कन्ना छीं सब वेकि ही अज्काल जै जयकार ,
गंडेल जण अल्लगै की मुंड सर्र सर्र
बोलणा छीं दगडी
जै भ्रष्टाचार !
जै भ्रष्टाचार !
जै भ्रष्टाचार !

रचनाकर :गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से,सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : मेरे अप्रकाशित गढ़वाली काव्य संग्रह " घुर घुगुती घुर " से

Jagar for Blessing : Making People Positive Thinker

Culture and Folk Literature of Kumaun Garhwal Himalayas
Jagar for Blessing : Making People Positive Thinker
आशीर्वचन जागर
Bhishma Kukreti
People arrange Ghadela or Pando Nrity etc for worshipping deities. The Jagari narrates poetic story and plays musical instruments Daunru-Thali or Dhol-Damau
At the end Jagari on behalf of deity or Bhoot provide blessing in Jagar style (Bhaun) . This blessing Jagar is absolutely for enhancing the self esteem, self confidence, self moral and is definitely a positive notes for those who arranged Dev Poojan /Ghadela/pando Nrity /Ranso etc and for audiance too. This is marvelous piece of enhancing self confidence of devoties . There are direct blessing words and symbolic too
I salute to creator of the poem .
Today psychologists charge unbelievable fess for making patient postive or changing negative frame of mind into POSITIVE FRAME OF MIND and suggest them to speak as " Iam Ok , I will succeed , I believe, I will be healthy, i will have wealth for future.." Our forefathers were born psychologists and they created following poem for creating positive frame of mind for whole population of village
Definitely at all ages making people in postive frmae of mind is difficult job but our folks found the way with the help of Ghadela-Mantra-tantra etc . The said poem is still valid for who are in villages, towns, cities, metros or are travelling to Marsh
यूँको राज राखी देवता
यूँका माथा भाग दे देवता
यूँका बेटा -बेटी राज रखी देवता
यूँका कुल की जोत जगै देवता
यूँका खजाना जस दे देवता
यूँका डंड़याळी भरीं रै देवता
यूँका साग सगवाड़ी रोज रै देवता
नाज का कुठार दे देवता
धन का भण्डार दे देवता
Curtsey : Book by Dr Shiva Nand Nautiyal
Copyright Bhishma Kukret

Saampu Nriya Geet : Devotion to Nagela Deity

Folk Literature and Culture of Kumaun – Garhwal Himalayas

Saampu Nriya Geet : Devotion to Nagela Deity
साम्पू नृत्य गीत : नगेलो देवता को समर्पित नृत्य गीत
Bhishma Kukreti

There is less doubt that prior to Khas dynasty took over Garhwal and Kumaun, there were Nag inhabitants in both the areas. Nag vanshi dynasty were before Vedas too and there is mention of Nag vansh in Rig-Veda and Atharv-Veda ( A.B Keith and Dr Bhagvat Sharan Upadhyaya ) . There are many characters of nag Vansh in Mahabharat and there is mention of serpant castes or division in Mahbharat. Puran etc also describe Nag vansh

As far as Garhwal Kumaun is concerned, it seems that Khas dominated over Nag of the area and changed the culture

Serpent is part and partial of Indian people and that is the reason , there many deities related to Nag . In Kumaun and Garhwal if we study village’s old temples or Math we may find instead of Idols there are Snake iron sculptures inside the temples . the reason is valid that Garhwalis , Kumaonis and Nepalese worshiped Nag deity from the beginning of civilization in the area

Snake is not only worshiped in India but in other parts too and there is worship and dance for snake worship in many parts of world . Hopi people of North America performed the annual snake dance , Fijians worship snake god asNdengei; in Egyptian mythology there are many snake gods and even- Apep is evil god; in east Asia, Dragon is nothing but derived god from serpent ; in Hittite mythology , the name of snake god is Illuyanka ; Bobbi-Bobbi is the huge snake god of BinBinga tribe of North Australia ; Tefnut is snake goddess for moisture of ancient Egyptians ; in very ancient age in Africa, the snake god was Dahaomy and there is snake god in Nordic civilization too

There is snake dance or serpent dance or sarp nrity in many parts of world as in Africa, and in Asia;; there used to be in culture of Native American and in Maya culture too .

Same way, Garhwalis and Kumaonis worship Snake god in the names of Nagraja and Nagelo . nagelo is the god of fame, prosperity, success and fertility. The worship method is Ghadela but in many parts there is dance and song for nagelo in normal time too. The following song is sung and danced in Lasya Patti of Tihri and Uttarkashi regions . there are amny varieties of dance and all dances are nearer to Snake dance in groups

The song itself narrates the story of place and two gods- Nagelo and Pitaseen too :
द्यूळ नागेलो नाचलो बल द्यूळ नागेलो
पिटासीणि का धोरा, बल नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो
लस्या थाती का बिच , बल नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो
भौकारों का रुणाट , बल नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो
पायाल़ा ल़ेण नाचलो , बल नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो
ढोलूं का दौर नाचलो, बल नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो
लून्गालों का पैल नाचलो , बल नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो
साठी फसल काटण नाचलो , बल नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो
भैन्स्यों का बैराट बल देखलो , नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो
पअयाग बल नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो जाणो नाचलो ,
स्युंरता की रात नाचलो , बल नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो
बजरा की थाती नाचलो, बल नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो
औतुं पुतर देलू, बल नाचलो द्यूळ नागेलो नाचलो
Ref: manuscript from Dr Purushottam Dobhal and edited by Dr Shiva Nand Nautiyal
Copyright @ Bhishma Kukreti

Nagelo Jagar : The Song of Getting Fame and Success

Spiritual Folk Literature of Garhwal Kumaun , Himalayas

Nagelo Jagar : The Song of Getting Fame and Success

नगेलो जागर : यश व धन धान्य प्राप्ति का मन्त्र जागर

Bhishma Kukreti

From the day, human being got mind and language, human being created deity too. There are deities in most of the society. For example there are deities in Greek representing different works for fulfilling the human desires as Aphrodite for love and beauty; Apollo for Ares for war, courage, civil order ;Artemis for hunt, wilderness ; Athena for wildness; Demeter for wisdom; Dionysus for wine, festivals; Pluto god of dead; Hera for good marriage and women; Hestia for good health; Hermes as god of travel; Hestia the god of home, cooking etc; Poseidon the god of river, flood etc and Zeus is the king of god.

In Egyptian mythology we find the god and goddess as Aker as double lion god; Amun the hidden god; Ammut –the god of devourer ; Hapi – father of all god; Aten as lord of all; Khunum the lord of cool waters; min the chief of heaven; Petah –the opener; Sobek as the god of fertility; Thothas god of measurer . the Egyptian goddess are ---Bastet l the goddess of tearer; Hathor the mistress of heaven; Maat the goddess of truth; Nyphthys as the goddess of hose; Shesat the goddess of library; nut the goddess of sky

If we study the ancient roman deities they are more than hundred deities and major deities are Apollo, Ceres, Diana, Juno, Jupiter, Mars, Mercury, Neptune, Venus, Vest and Vulcan

Same way , in Kumaun and Garhwal area , there are tens of god and goddess for specific blessings

Nagela a deity of Garhwal-Kumaun is the god of fame and success and this Jagar states so :

नेगेलो का जागर

द्यूल नगेलो आयो जसीलो दिबता
द्यूल नगेलो आयो जसीलो भक्तों देंद जस
द्यूल नगेलो आयो मुलक लगे भेऊँ
द्यूल नगेलो आयो रमोली की थाती
द्यूल नगेलो आयो बजिरा की गादी
द्यूल नगेलो आयो तै मोतू का सिर
द्यूल नगेलो आयो चै मैना का बालक
द्यूल नगेलो आयो भौंकरूं का रुणाट
द्यूल नगेलो आयो घांडियों का घमणाट
द्यूल नगेलो आयो पर्चो बतौन्द
द्यूल नगेलो आयो जो बणोन्द चौंळ
द्यूल नगेलो आयो हरियाली जमौन्द
द्यूल नगेलो आयो लैंदी देंदी दूध
द्यूल नगेलो आयो मनखी देंद दूध
द्यूल नगेलो आयो औता देंद पूत
द्यूल नगेलो आयो क्वांरा देंद ब्यौउ
Song from Dr Shiva Nand Nautiyal Garhwal ke Lok Nrity
Copyright @ Bhishma Kukreti

Thursday, May 26, 2011

सुरकंडा देवी का जागर

Culture of Kumaun and Garhwal
Surkanda Devi Jagar
सुरकंडा देवी का जागर
(Spiritual Folk Literature of Garhwal and Kumaun )
Presented on Internet by Bhishma Kukreti
In Garhwal, there are twelve Devi as the mythology in Garhwal suggests that they were twelve siters )Dr Shiva Nand Nautiyal)
In Athwad or in Ghadela of Surkanda Devi, the Jagari (who narrates story in lyrical form and plays Damru or thali or Dhol /Damau) narrates the story of Mahamaya that Mahamaya (Surkanda Devi ) beheaded Asur (Devils) and threw those bodies Nepal and their heads on the hills of Surkhanda . She came to take rest under the tre Ransula in Surkanda hill.There her twelve sisters come to meet Mahamaya (Dr Shiva Nand Nautiyal in Garhwal ke Lok Nrity Geet) The song and dance is of bravery rapture and the dancers dance with vibrant form . Same way the audiance enjoys chivelary rapture by watching and listening Ghadela . Devi also whistles laudly (kilkana ) . The Ghadela of Devi performance is realy a different experience than Nagraja or Nagelu devta. you get different enjoyment /delight from each jagar and Ghadela
Dr Govind Chatak provided the following Jagar ( perfomrmed either in Devi Ghadela or Athwad)
जै जगदम्बा भाख बाणी
सर्वाणि चंडिका माई
आदि संसार की माया
यो पिंड तैने उपाया
महा लक्ष्य महा नारायणी
जै जगदम्बे तेरो ध्यान जागो
कनि रैंदी माता उंचा सुरकंडा
उंचा सरकंडा माता रौन्सालू को छैल
उंचा सरकंडा का नीत माता कुंजापुरी
कनि भेंटदी माता बारा बैणि
रागसून नेग करी रागसून
मद पीक माता ह्वेगे विकराळ
तब मारे त्वेन रागस
मारिक त्वेन धड पौन्चाये नेपाल
मुंड पौन्चाये सुरकंडा
जय जगदम्बा संघारणी देवी
सब की चंडिका माई
आदि संसार की हे आदि माया
यो पिंड तीन उपजायो
हे महालक्ष्मी हे महानारायणी
हे जगदम्बे तेरो ध्यान जागे
मा तू उच्चो सुरकंडा मा रौंदी
उच्चू सुरकंडा मा जख रौन्सालू को छैलू
उख सबि बैणी मिलणो भींट्याणो आन्दन
जब रागसून करी उत्पात
तब तू ह्व़े मद पीके विकराळ
तीन एक एक मारी धड पौन्चाये नेपाल
अर मुंड पौन्चाये सुरकंडा
Copyright for Commentary @ Bhishma Kukreti

Nirankar Jagar : Rebelian Song Against Brahmanvad

Culture of Kumaun and Garhwal
Nirankar Jagar : Rebelian Song Against Brahmanvad
निरंकार जागर : ब्राह्मणवाद के विरुद्ध एक धार्मिक गीत

(Spiritual Literature of Garhwal, Kumaun and Himalayas)
Bhishma Kukreti
Nirankaar Jee is called Bada Devta or Supreme Lord and is worshiped by all but only the Shilpkar community performs the Pujai of Nirankar jee.
The following Jagar is clearly revolt against Brahmanvad and this type of rituals at the end of shilpkar are one of the reasons for upcoming of Shilpkars
My salute to the creator of this fine revolutionary and rebellion poetry
This poem is a Diamond Jewl of Folk Literature of Garhwal

ओंकार सतगुरु प्रसाद ,
प्रथमे ओंकार , ओंकार से फोंकार
फोंकार से वायु , वायु से विषन्दरी
विषन्दरी से पाणी , पाणी से कमल,
कमल से ब्रह्मा पैदा ह्वेगे
गुसैं को सब देव ध्यान लेगे
जल का सागरु मा तब गुसैं जीन सृस्ठी रच्याले
तब देंदा गुसैं जी ब्रम्हा का पास
चार वेद , चौद शास्तर , अठार पुराण
चौबीस गायत्री
सुबेर पध्द ब्रह्मा स्याम भूलि जांद
अठासी हजार वर्स तक ब्रह्मा
नाभि कमल मा रैक वेद पढ़दो
तब चार वेद , अठार पुराण चौबीस गायत्री
वे ब्रह्मज्ञानी तैं गर्व बढ़ी गे
वेद शाश्त्रों धनी ह्वेई गयों
मेरा अग्वाड़ी कैन हूण?
मि छऊँ ब्रह्मा श्रिश्थी का धनी
तब चले ब्रह्मा गरुड़ का रास्ता
पंचनाम देवतौं की गरुड़ मा सभा लगीं होली
बुढा केदार की जगा बीरीं होली
सबकू न्यूतो दियो वैन गुसैं नी न्यूतो
वे जोगी को हमन जम्मा नी न्यूतण
स्यो त डोमाण खैक आन्द , स्यो त कनो जोगी होलो
तब पुछ्दो ब्रह्मा - को होलू भगत
नारद करदो छयो गंगा मै की सेवा
पैलो भगत होलू कबीर , कमाल तब कु भगत होलू
तब को भगत होलू रैदास चमार
बार बर्स की धूनी वैकी पूरी ह्व़े गे
तब पैटदू ब्रह्मा गंगा माई क पास
तुम जाणा छ्न्वां ब्रह्मा , गंगा मै का दर्शन
मेरी भेंट भी लिजावा , माई को दीण
एक पैसा दिन्यो वैन ब्रह्मा का पास
तब झिझडांद ब्रह्मा यो रैदास चमार
क्न्कैकू लीजौलू ये की भेंट
तब बोल्दो रैदास भगत ---
मेरी भेंट को ब्रह्मा , गंगा माई हाथ पसारली
मेरी भेंट कु ब्रह्मा , गंगा माई बाच गाडलो
चली गये ब्रह्मा तब गंगा माई का पास
नहाए धोये ब्रह्मा छाला खड़ो ह्व़े गये
घाघु मारे वेन गंगा न बाच नी गाडी
तब उदास ह्व़ेगे ब्रह्मा घर बौडिक आये
रैदास की भेंट वू भूलि गए
अध्बाट आये ब्रह्मा , आंखी फूटी गेन
गंगा माई जथें दिखे आँखी खुली जैन
तब याद आये ब्रह्मा रैदास की भेंट
बौडी तब वो गंगा माई को छाला
रैदास की भेंट छ दीनी या माई
रैदास को नाम सुणीक तब
गंगा माई न बाच दियाले
रैदास होलू म्यारो पियारो भगत
एक शोभनी कंकण गंगा माई न गाड्यो
ब्रह्मा मेरी या समूण तू रैदास देई
ब्रह्मा का मन कपट ऐगे लोभ बसी गे
यो शोभनी कंकण होलू मेरी नौनि जुगत
तब रैदास का घर का बाटा
ब्रह्मा लौटिक नी औंदो
पर जै भी बाटा जांद रैदास खड़ो ह्व़े जांद
ब्रह्मा गंगा माई की मैं समूण दी होली
त्वेकू बोल्युं रैदास --
ब्याखुनी दां मैं तेरा घर औण
सुणदो रैदास तब प्रफुल्ल ह्वेगे
सुबेरी बिटे गौंत छिड़कदो
घसदो छ भीतरी लीप्दो छ पाळी
आज मेरा डेरा गंगा माई न आण
वैकु चेला होलू जल कुंडीहीत
जादू मेरा हीत बद्री का बाड़ा केदार का कोण्या
ल़ी आओ मैकू अखंड बभूत
देवतों न सुणे रैदास की बात
जोगी हीत तब पिंजरा बंद करयाले
इन होलो सत जत को पूरो
जोगी चाखुली बणी उडी जान्दो
Ref: Dr Govind Chatak : garhwal ki Lok gathayen page 87

Wednesday, May 25, 2011

Jagar of Anchheriyan / Matariyan

Culture of Garhwal and Kumaun
Jagar of Anchheriyan / Matariyan
अन्छेरी या मतारियों के जागर : अतृप्त अप्सराओं की आत्मा शांति हेतु जागर
(Spiritual Folk Literature of Kumaun , Garhwal and Himalayas )
Presented on Internet by Bhishma Kukreti
( Manuscript by Patiram Nautiyal, Village Sald, Badahat, Uttarkashi, Edited by Dr Shiva Nand Nautiyal )
Anccheri or Matar means Fairy /Pari. Their place is supposed to be Khaint danda and where Anchheri or Matar are there there should be lake, flower beds too. These Anchheri or Matar are the souls of female child who died in early age (Matar ) or died before mmarriage (Anchheri) . Many dead female souls become Anchheri because they were taken by dieties forcibly .
The story is told in a Detective story style that first the result is cleared to audiance and then the story goes back in chronological path. I salute those folk creators who might be not educated but they were well knowledgable about creating interest in story . There we may also find various Alankar for creating melodies such as Anupras alankar Upama Alankar
The poetic story creator was also well versed with geography and knowing the psychology of females .What a marvelous piece of poetry ...Splendid !!!!!!!!!!!
The following Jagar has a story of seven Rawat sisters of Rautgaon . huniya deity took them forcibly to Khaint hill and after their death they all became Anchheri (Pari, Fairy)
तुम रैंदा ल़े तै दागुडिया गाँव , दिसई दागुडियो
तुम होली रौतों की बियाण , दिसई दागुडियो
चला बैणी मारछा काटण दिसई दागुडियो
चला बैणी मारछा कूटण दिसई दागुडियो
चला बैणी द्यू ह्वेगे उराड़ो, दिसई दागुडियो
तख़ ऐगे हुणिया को रथ दिसई दागुडियो
तुम पडीग्याँ हुणिया का रथ दिसई दागुडियो
सात बैणि एक छ भाई भड़ दिसई दागुडियो
चला बैणी बाटा का उडयारो दिसई दागुडियो
बाटा का उड्यारी टपकण्या पाणी दिसई दागुडियो
चला दागुडि बुरांसी का द्यूळ दिसई दागुडियो
तुम ह्वेगी पर्दा का धनी दिसई दागुडियो
चला बैणी सैणि खरसाली दिसई दागुडियो
कमर बांदी ऐड़ू की पुंगडि दिसई दागुडियो
चला बैणी तै उन्द गंगाड दिसई दागुडियो
तख़ हूंद जीरी बासमती दिसई दागुडियो
चला बैणी सैणि बड़ागडी दिसई दागुडियो
तख दीन्दा मऊ का बुखाणा दिसई दागुडियो
तख़ देंदा डब्लू का गौणु दिसई दागुडियो
तख़ देंदा पगड़ी का खाजा दिसई दागुडियो
तख़ देंदा छुणक्याळी दाथुड़ी दिसई दागुडियो
चला बैणि तै पावा वारसू दिसई दागुडियो
चला बैणी उच्चा रैथल दिसई दागुडियो
तख़ देंदा पोस्तु का छुम्मा दिसई दागुडियो
चला बैणी तै दागुडू गाँव दिसई दागुडियो
चला बैणी घर कै जौंला दिसई दागुडियो
तुम ह्वेग्याँ डांड़यूँ का आंछरी दिसई दागुडियो
Now ,at the time of Ghadela, the jagari offers many materilas approperate for a female young lady that Anchheri /Matari or fairy leaves the Pashwa
सुवा पंखो त्वेकू मी साड़ी द्युलू
त्वे सणि लाड़ी मै गैणा द्यूंल़ू
नारंगी मै त्वेकू चोली द्युलू
सतरंगी त्योकू मि दुशाला द्योलू
सतनाजा त्योकू मि डीजी द्योलू
औंल़ा सरीको त्वे डोला द्योलू
सांकरी त्वेकू मि समूण द्योलू
झिलमिल आइना त्वे कांगी द्योलू
न्यूती की लाडली त्योकू बुलौलू
पूजिक त्वे साड़ी घर पठौल़ू
Copyright for commentary @ Bhishma Kukreti , bckukreti@gmail

हंत्या जागर ( कलेरा या रान्सो)

Culture of Kumaun and Garhwal

Hantya Jagar
हंत्या जागर ( कलेरा या रान्सो)

(Spiritual Folk Literature of Kumaun , Garhwal and Himalayas )

Presented on Internet by Bhishma Kukreti

Hantya Jagar or Songs to please the dead soul of beloved (Gharbhoot) are also called Bhoot ka Kalera or Ranso

When the Jagari (the singer of Jagar or Vartakar ) narrates the narration in Jagar pattern the audience feel the pathos.

The following two Jagars are one of the best example of Pathos in Garhwali Folk literature and the emotions as Grief, Awe, Detachment, Remorse, fatigue, Depression, anxiety, delusion, Agitation, dejection, Epilepsy, Insanity, Disorder, Terror, Choking of voice, tears etc in wordings of jagar, while Pashva (who dances on behalf of dead soul ) and among the audience who come to listen Ghadela

यह जागर एक स्त्री आत्मा के निमित जागर है जो घरभूत पुजाई के वक्त घड़ेल़ा में जागरी सुनाता है इसे सुनकर व पश्वा के करुणा जनक नृत्य से दर्शक रोने लगते हैं
तेरी छोडि च बोई चाखुड सि टीली
तेरी होली बोई जसी माता को पराणि
होला बोई पराणि जसी पाफड़ सी पाणी
कनो रई होली बोई तेरो उबाण रीट दो
कनो रई होलो बोई तेरी उकाळ छौम्पदो
जसी होली बोई तेरी द्युराणी जिठाणी
तीन बोली होलू ब्व़े मी हर्ष देखुलो
कै कालन डाळी होलो ब्व़े जोड़ी मा बिछोड
यखिम बैठ्युं च ब्व़े तेरा सिर कु छतर
देखी भाळी जान्दु अपणी इ भैरो भीतरी
देखी जा दों ब्व़े ईं रौन्त्याळी गँवाडि
निम्न कलेरे में एक युवक की ह्न्त्या नचाई जा रही है और इस गाने में जागर में करुण रस देखिये: ----------------------------------------------------
कनि छे भुला तेरी वा हौन्सिया उमर
कनि छो चुचा तू जै को पियारो
देख बैठ्याँ यखी म तेरा गोती सोरा
दूदा ब्व़े हुयीं चा या तेरी निपूती मयेड
कनि छे भुला तेरी वा जोड़ी सौंजडि
उना मयाल़ा सुभाऊ का रै यकुला रै तू
मर्दि बगत भुला त्वेन पाणी बि नि पियो
बिदेसू जगा होई तू भुचेणि नी पायो
कख गै ह्वेलो भुला तू तैं मयेडि ऐसे की
डारी मा की छुटी च त्य्री भग्यान ब्वारी
मौत सबकू औंद आग सबकू जगौन्द
तिन कायर नि होणु सागर कु पाणी समंद
Collected and edited by Abodh Bandhu Bahuguna in Dhunyal page 63
B. C. Kukreti

Tuesday, May 24, 2011


गढ़वाली कविता : घन्डूड़ी

मिल दद्दी मा ब्वाल -दद्दी काश मी घन्डूड़ी हुन्दु
उड़ जान्दु फुर्र- फुर्र दूर परदेश भटेय
अपड़ा गौं पहाड़ जनेय
फिर उडणू रैन्दू वल्या-पल्या सारियुं मा
डालियुं - पन्देरौं मा
खान्दू काफल -हिन्सोला
किन्गोड़ा- तिम्ला और बेडु
पिन्दू छुंयाल धारा मगरौं छंछडौं कु पाणी
बैठ्युं रैन्दू छज्जा तिबारी खालियाँण
या फिर चौक - जलोठौं मा
दद्दी ल बवाल - म्यार लाटा
तेरि भी ब्बा सदनी बकि बात की छुयीं रैंदी
ब्वलण से भी बल कबही कुछ हुन्दु चा ?
दस साल भटेय वू निर्भगी सुबेर शाम
बिगास बिगास बसण लग्यां छीं
कक्ख हुणु च वू बिगास ?
और कैकु हुणु चा ?
जरा बतै धौं

रचनाकार : गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : म्यार ब्लॉग हिमालय की गोद से
(http://geeteshnegi.blogspot.com/ )

Monday, May 23, 2011

Narsing Jagar : Nathpanthi Mantras

Culture of Kumaun and Garhwal
Narsing Jagar : Nathpanthi Mantras
नरसिंग जागर : नाथपंथी मन्त्र
(Mantra Tantra in Garhwal, Mantra Tantra in Kumaun , Mantra Tantra in Himalayas )
Presented on Internet Medium by :Bhishma Kukreti
आम तौर पर नरसिंग भगवान को विश्णु अवतार माना जाता है किन्तु कुमाऊं व गढ़वाल में नर्सिंग भगवान गुरु गोरखनाथ के चेले के रूप में ही पूजे जाते हैं . नर्सिंगावली मन्त्रों के रूप में भी प्रयोग होता है और घड़ेलों में जागर के रूप में भी प्रयोग होता है. इस लेखक ने एक नरसिंग घडला में लालमणि उनियाल , खंडूरीयों का जिक्र भी सूना था
नरसिंग नौ हैं : इंगला वीर, पिंगला बीर , जतीबीर, थतीबीर, घोरबीर, अघोरबीर, चंड बीर , प्रचंड बीर , दुधिया व डौंडिया नरसिंग
आमतौर पर दुधिया नरसिंग व डौंडिया नरसिंग के जागर लगते हैं . दुधिया नरसिंग शांत नरसिंघ माने जाते है जिनकी पूजा रोट काटने से पूरी हो जाती है जब कि डौंडिया नरसिंग घोर बीर माने जाते हैं व इनकी पूजा में भेड़ बकरी का बलिदान की प्रथा भी है
निम्न जागर बर्दी केदार मन्दिर स्थापना के बाद का जागर लगता है क्योंकि इसमें डिमरी रसोईया (सर्युल ) व रावल का वर्णन भी है
जाग जाग नरसिंग बीर बाबा
रूपा को तेरा सोंटा जाग , फटिन्गु को तेरा मुद्रा जाग .
डिमरी रसोया जाग , केदारी रौल जाग
नेपाली तेरी चिमटा जाग , खरुवा की तेरी झोली जाग
तामा की पतरी जाग , सतमुख तेरो शंख जाग
नौलड्या चाबुक जाग , उर्दमुख्या तेरी नाद जाग
गुरु गोरखनाथ का चेला जाग
पिता भस्मासुर माता महाकाली जाग
लोह खम्भ जाग रतो होई जाई बीर बाबा नरसिंग
बीर तुम खेला हिंडोला बीर उच्चा कविलासू
हे बाबा तुम मारा झकोरा , अब औंद भुवन मा
हे बीर तीन लोक प्रिथी सातों समुंदर मा बाबा
हिंडोलो घुमद घुमद चढे बैकुंठ सभाई , इंद्र सभाई
तब देवता जागदा ह्वेगें , लौन्दन फूल किन्नरी
शिवजी की सभाई , पेंदन भांग कटोरी
सुलपा को रौण पेंदन राठवळी भंग
तब लगया भांग को झकोरा
तब जांद बाबा कविलास गुफा
जांद तब गोरख सभाई , बैकुंठ सभाई
अबोध्बंधू बहुगुणा ने 'धुंयाळ" में जोशीमठ के रक्षक दुध्या बाबा का जागर इस प्रकार डिया
गुरु खेकदास बिन्नौली कला कल्पण्या
अजै पीठा गजै सोरंग दे सारंग दे
राजा बगिया ताम पातर को जाग
न्यूस को भैरिया बेल्मु भैसिया
कूटणि को छोकरा गुरु दैणि ह्व़े जै रे
ऊंची लखनपुरी मा जै गुरुन बाटो बतायो
आज वे गुरु की जुहार लगान्दु
जै दुध्या गुरून चुडैल़ो आड़बंद पैरे
ओ गुरु होलो जोशीमठ को रक्छ्यापाल
जिया व्बेन घार का बोठ्या पूजा
गाड का ग्न्ग्लोड़ा पूज्या
तौ भी तू जाती नि आयो मेरा गुरु रे
गुरून जैकार लगाये , बिछुवा सणि नाम गहराए
क्विल कटोरा हंसली घोड़ा बेताल्मुखी चुर्र
आज गुरु जाती को ऐ जाणि रे
डा शिवानन्द नौटियाल ने एक जागर की चर्चा भी की
जै नौ नरसिंग बीर छयासी भैरव
हरकी पैड़ी तू जाग
केदारी तू गुन्फो मा जाग
डौंडी तू गढ़ मा जाग
खैरा तू गढ़ मा जाग
निसासु भावरू जाग
सागरु का तू बीच जाग
खरवा का तू तेरी झोली जाग
नौलडिया तेरी चाबुक जाग
टेमुरु कु तेरो सोंटा जाग
बाग्म्बरी का तेरा आसण जाग
माता का तेरी पाथी जाग
संखना की तेरी ध्वनि जाग
गुरु गोरखनाथ का चेला पिता भस्मासुर माता महाकाली का जाया
एक त फूल पड़ी केदारी गुम्फा मा
तख त पैदा ह्वेगी बीर केदारी नरसिंग
एक त फूल पड़ी खैरा गढ़ मा
तख त पैदा ह्वेगी बीर डौंडि
एक त फूल पोड़ी वीर तों सागरु मा
तख त पैदा ह्वेगी सागरया नरसिंग
एक त फूल पड़ी बीर तों भाबरू मा
तख त पैदा ह्वेगी बीर भाबर्या नारसिंग
एक त फूल पड़ी बीर गायों का गोठ , भैस्यों क खरक
तख त पैदा ह्वेगी दुधिया नरसिंग
एक त फूल पड़ी वीर शिब्जी क जटा मा
तख त पैदा ह्वेगी जटाधारी नरसिंग
हे बीर आदेसु आदेसु बीर तेरी नौल्ड्या चाबुक
बीर आदेसु आदेसु बीर तेरो तेमरू का सोंटा
बीर आदेसु आदेसु बीर तेरा खरवा की झोली
वीर आदेसु आदेसु बीर तेरु नेपाली चिमटा
वीर आदेसु आदेसु बीर तेरु बांगम्बरी आसण
वीर आदेसु आदेसु बीर तेरी भांगला की कटोरी
वीर आदेसु आदेसु बीर तेरी संखन की छूक
वीर रुंड मुंड जोग्यों की बीर रुंड मुंड सभा
वीर रुंड मुंड जोग्यों बीर अखाड़ो लगेली
वीर रुंड मुंड जोग्युंक धुनी रमैला
कन चलैन बीर हरिद्वार नहेण
कना जान्दन वीर तैं कुम्भ नहेण
नौ सोंऊ जोग्यों चल्या सोल सोंऊ बैरागी
वीर एक एक जोगी की नौ नौ जोगणि
नौ सोंऊ जोगयाऊं बोडा पैलि कुम्भ हमन नयेण
कनि पड़ी जोग्यों मा बनसेढु की मार
बनसेढु की मार ह्वेगी हर की पैड़ी माग
बीर आदेसु आदेसु बीर आदेसु बीर आदेसु
Dr Kusum lata Pandey described the following mantra in her research paper
पारबती बोल्दी हे मादेव , और का वास्ता तू चेला करदी
मेरा भंग्लू घोटदू फांफ्दा फटन , बाबा कल्लोर कोट कल्लोर का बीज
मामी पारबती लाई कल्लोर का बीज , कालोर का बीज तैं धरती बुति याले
एक औंसी बूते दूसरी औंसी को चोप्ती ह्व़े गे बाबा
सोनपंखी ब्रज मुंडी गरुड़ी टों करी पंखुरी का छोप
कल्लोर बाबा डाली झुल्मुल्या ह्वेगी तै डाली पर अब ह्वेगे बाबा नौरंग का फूल
नौरंग फूल नामन बास चले गे देवता को लोक
पंचनाम देवतों न भेजी गुरु गोरखनाथ , देख दों बाबा ऐगे कुसुम की क्यारी
फूल क्यारी ऐगे अब गुरु गोरखनाथ
गुरु गोरखनाथ न तैं कल्लोर डाली पर फावड़ी मार
नौरंग फूल से ह्वेन नौ नरसिंग निगुरा , निठुरा सद्गुरु का चेला
मंत्र को मारी चलदा सद्गुरु का चेला
पंडित गोकुल्देव बहुगुणा से प्राप्त नर्सिंगाव्ली पांडुलिपि का उल्लेख करते हुए डा विश्णु दत्त कुकरेती ने यह मंत्र उल्लेख किया है
ॐ नमो गुरु को आदेस ... प्रथमे को अंड अंड उपजे धरती , धरती उपजे नवखंड , नवखंड उपजे धूमी, धूमी उपजे भूमि, भूमि उपजे डाली , डाली उपजे काष्ठ , काष्ठ उपजे अग्नि , अग्नि उपजे धुंवां , धुंवां उपजे बादल , बादल उपजे मेघ , मेघ पड़े धरती , धरती चले जल , जल उपजे थल , थल उपजे आमी , आमी उपजे चामी , चामी उपजे चावन छेदा बावन बीर उपजे म्हाग्नी , महादेव न निलाट चढाई अंग भष्म धूलि का पूत बीर नरसिंग

References :
1- Rahul Santyakritan : Kumaun
2- Rahul : himalay Ek Parichay
3- Dr Pitambar Datt Barthwal :
4 Dr Govind Chatak : Garhwal ke Geet so
5- Dr Shiva Nand Nautiyal : garhwal ke Loknrity-Geet
6- Dr Vishnu Datt Kukreti Nathpanth : garhwal ke Paripeksh me
7- Kusum Pandey : Garhwal me Dev Pooja a research Thesis of HNBGU Shrinagar
8- Abodh bandhu Bahuguna : Dhunyal a collection of Folk Songs of Garhwal
Manuscript " Narsingavali and Narsingh Ukhel Bhed " from Gokul Dev Bahuguna vill Jhala , Chalansyun Pauri garhwal

B. C. Kukreti


कुछ सुल्झयाँ
कुछ अल्झयाँ
कुछ उक्करयाँ
कुछ खत्याँ
कुछ हरच्यां
कुछ बिसरयाँ
कुछ बिस्ग्याँ
त कुछ उन्दू बौग्याँ
कुछ हल्याँ
कुछ फुक्याँ
कुछ कत्तर - कत्तर हुयाँ
मेरी इन्ह जिंदगी का पन्ना
बन बनि का हिवांला रंगों मा रुझयाँ
चौदिश बथौं मा उड़णा
हैरी डांडीयूँ - कांठीयूँ मा
चिफ्फली रौल्यूं की ढून्ग्युं मा
पुंगडौं-स्यारौं -सगौडियों मा
फूल -पातियुं मा
भौरां - प्वत्लौं मा
डाली- बोटीयूँ मा
चौक - शतीरौं मा
दगड़ ग्वैर-बखरौं मा
हैल - दथडियूँ मा
भ्याल - घस्यरियौं मा
पाणि -पंदेरौं मा
गुठ्यार- छानियौं मा
चखुला बणिक
डंडली - डंडली मा
टिपण लग्याँ
म्यरा द्वी
भुल्याँ - बिसरयाँ खत्याँ
बाला दिन |

रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी ( सिंगापूर प्रवास से,सर्वाधिकार-सुरक्षित )

अस्थाई निवास: मुंबई /सहारनपुर
मूल निवासी: ग्राम महर गावं मल्ला ,पट्टी कोलागाड
पोस्ट-तिलखोली,पौड़ी गढ़वाल ,उत्तराखंड
स्रोत : म्यारा ब्लॉग "हिमालय की गोद से " मा पूर्व-प्रकशित


हौल्दार ,
थाणादार ,
डिप्टी - कलक्टर ,
तहसीलदार ,
डॉ ० और प्रिंसिपल साहब
सबही प्रवासी व्हेय ग्यीं
अब रै ग्यीं त बस
और उन्का डूटयाल
जू लग्याँ छीं
दिन रात
सबुल लगांण मा
अफ्फ अफ्फ खुण
पहाड़ मा
म्यारा कुमौं-गढ़वाल मा !

रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी ( सिंगापूर प्रवास से,सर्वाधिकार-सुरक्षित )
अस्थाई निवास: मुंबई /सहारनपुर
मूल निवासी: ग्राम महर गावं मल्ला ,पट्टी कोलागाड
पोस्ट-तिलखोली,पौड़ी गढ़वाल ,उत्तराखंड
स्रोत : म्यारा ब्लॉग "हिमालय की गोद से " मा पूर्व-प्रकशित


मिथये अचांणंचक से ब्याली सोच प्वड़ी गईँ
किल्लेय कि कुई कणाणु भी छाई
फफराणु भी छाई
द्वी चार लोगौं का नाम लेकि
कबही छाती भिटवल्णु कबही रुणु भी छाई
बगत बगत फिर उन्थेय सम्लौंण भी लग्युं छाई
तबरी झणम्म से कैल
म्यार बरमंड का द्वार भिचौल द्यीं
सोचिकी मी खौलेय सी ग्युं
कपाल पकड़ी कि अफ्फी थेय कोसण बैठी ग्युं
सोच्चण बैठी ग्युं कि झणी कु व्हालू ?
मी कतैइ नी बिंगु
मिल ब्वाल - हैल्लो हु आर यू ?
मे आई हेल्प यू ?
वीन्ल रुंवा सी गिच्चील ब्वाळ
निर्भगी घुन्डऔं - घुन्डऔं तक फूकै ग्यो
पर किरांण अज्जी तक नी ग्याई ?
मी तुम्हरी लोक भाषा छोवं
मेरी कदर और पछ्याँण
तुम थेय अज्जी तक नी व्हाई ?
सुणि कि मेरी संट मोरि ग्या
और मेरी जिकुड़ी थरथराण बैठी ग्या
मी डैर सी ग्युं
और चदर पुटूग मुख लुका कि
स्यै ग्युं चुपचाप से
और या बात मिल अज्जी तक कैमा नी बतै
और बतोवं भी त कै गिच्चल बतोवं ?
कन्नू कै बतोवं ?
कि मी गढ़वली त छोवं ?
पर मिथये गढ़वली नी आँदी ?
पर मिथये गढ़वली नी आँदी ?

रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी ( सिंगापूर प्रवास से,सर्वाधिकार -सुरक्षित, )
अस्थाई निवास: मुंबई /सहारनपुर
मूल निवासी: ग्राम महर गावं मल्ला ,पट्टी कोलागाड
पोस्ट-तिलखोली,पौड़ी गढ़वाल ,उत्तराखंड
स्रोत : म्यारा ब्लॉग "हिमालय की गोद से " मा पूर्व-प्रकशित

क्या व्हालू ?

जक्ख रस अलुंण्या राला
और निछैंदी मा व्हाला छंद
कलम होली कणाणि दगडी
वक्ख़ लोक-भाषा और साहित्य कु
क्या व्हालू ?

जक्ख अलंकार उड्यार लुक्यां राला
और शब्दों फ़र होली शान ना बाच
जक्ख गध्य कु मुख टवटूकु हुयुं रालू
और पद्य की हुईं रैली फुन्डू पछिंडी
वक्ख़ लोक -भाषा और साहित्य कु
क्या व्हालू ?

जक्ख जागर ही साख्युं भटेय सियाँ राला
और ब्यो - कारिज मा औज्जी
दगडी ढोल-दमो अन्युत्याँ राला
वक्ख़ लोकगीत तब बुस्याँ -हरच्यां हि त राला
और बिचरा लोग -बाग तब दिन -रात
वक्ख़ मंग्लेर ही खुज्याणा राला
वक्ख़ लोक -भाषा और साहित्य कु
क्या व्हालू ?
वक्ख़ लोक -भाषा और साहित्य कु
क्या व्हालू ?

रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी ( सिंगापूर प्रवास से,सर्वाधिकार -सुरक्षित, )
अस्थाई निवास: मुंबई /सहारनपुर
मूल निवासी: ग्राम महर गावं मल्ला ,पट्टी कोलागाड
पोस्ट-तिलखोली,पौड़ी गढ़वाल ,उत्तराखंड
स्रोत : म्यारा ब्लॉग "हिमालय की गोद से " मा पूर्व-प्रकशित

गढ़वाली कविता :द्वी अक्तूबर

गांधी का देश मा
हुणी च आज गाँधी वाद की हत्या
बरसाणा छीं शस्त्र- वर्दी धारी
निहत्थौं फर गोली - लट्ठा
सिद्धांत कीसौं मा धैरिक
भ्रस्टाचारी व्हे ग्यीं यक्ख सब सत्ता
जौलं दिखाणु छाई बाटू सच्चई कु
निर्भगी वू अफ्फी बिरडयाँ छीं रस्ता
ईमानदरी मुंड -सिरवणु धैरिक नेता यक्ख
तपणा छीं घाम बणिक संसदी देबता
दुशाषण खड़ा छीं बाट -चौबटौं मा द्रोपदी का
और चुल्लौंह मा हलैय्णी चा सीता अज्जी तलक
और गाँधी वाद बणयूँ चा सिर्फ विषय शोध कु
बणी ग्यीं कत्गे कठोर मुलायम गाँधी-वादी वक्ता
अब तू ही बता हे बापू !
द्वी अक्टुबर खुन्णी जलम ल्या तिल एक बार
किल्लेय हुन्द बार बार यक्ख
द्वी अक्टुबर खुण फिर गांधीवाद की हंत्या ?
निडर घुमणा छीं हत्यारा
लिणा छीं सत्ता कु सुख
न्यौं सरकारौं कु धरयुं च मौन
और लुकाणा छीं गांधीवादी मुख
और किल्लेय गांधीवाद यक्ख
न्यौं -अहिंसा का बाटौं मा लमसट्ट हुयुं च
और मिल त यक्ख तक सुण की अज्काळ
गाँधी का देश मा
गांधीवाद थेय आजीवन कारावास हुयुं च ?
गांधीवाद थेय आजीवन कारावास हुयुं च ?
गांधीवाद थेय आजीवन कारावास हुयुं च ?

(उत्तराखंड आन्दोलन के अमर शहीदों को इस आस के साथ समर्पित की एक दिन उन्हे इन्साफ जरूर मिलेगा और उनका समग्र विकास का अधूरा स्वप्न एक दिन जरूर पूरा होगा )

रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी ( सिंगापूर प्रवास से,सर्वाधिकार -सुरक्षित, )
अस्थाई निवास: मुंबई /सहारनपुर
मूल निवासी: ग्राम महर गावं मल्ला ,पट्टी कोलागाड
पोस्ट-तिलखोली,पौड़ी गढ़वाल ,उत्तराखंड
स्रोत : म्यारा ब्लॉग "हिमालय की गोद से " मा पूर्व-प्रकशित
( http://geeteshnegi.blogspot.com )

Samaina Vidhyan - Part -1

Folk Mantr Literature in Kumaun and Garhwal
Samaina Vidhyan - Part -1
समैणा विध्यान --1
(Mantra Tantra in Garhwal, Mantra Tantra in Kumaun, Mantra Tantra in Himalaya)
Presented by Bhishma Kukreti
(Ref Abodh Bandhu Bahuguna, Dr Vishnu Datt Kukreti, Manuscripts from Gokul Dev Bahuguna (Jhala PG), Rmakrishn Kukreti (Barsudi, ) Dharma Nand jakhmola (Jaspur) Mahima Nand Baluni (Uttinda Pauri Garhwal)
Smamina is the collection of various Mantra . Samaina also informs a few Tantrik process while narating the Mantra. In samaina we find the characteristics of deityes too Samaina describes the positive and brave characteristics of more than ten deities and also describes about bad evils . The most important aspect of this mantra literature is that the mantra deals with historical character Dhamdev king of Katyuri dynesty of Kumaun and deals with local characters too
श्री गणेशाय नम: श्री गुरु चरण कमलेभ्ये नम : ॐ नमो गुरु को आदेस गुरु को जुवार विद्वामाता कु नमस्कार . अथा सुमैण विधयाँण लिखिते . ॐ नमो निलम द्यौ सुकिली सभा बोल्दी कालीझालीमाली देवी . गोरिखाडा खेत्रपाल बेतालमुखी छुरी: खेगदासझाळी भाली देवी सुजस जैपाल ब्रना महरि : लेंडा महरि कुव महरि छमना पातर गुरु बेग्दास झाली माली देवी तन का रंग सिकुवा महर सात भाई कोठी सात भाई फलदा कोठी . राजा धामदेव का दश भाई दुलंच का बैठण वाल़ा . सोळ सौ कैतापुरी नकुवा मासाण लागी अत्याचार सांदणि सादो बांदणि बंदो . पकड़ी लायो सगती पाताळ धरती फुठी का पाठ राजा धामदेव का पाठ ध्यानसिंग भवन का पाठ प्रिथी का मालिक आजित महल भवरू घोड़ी का असिवारी डबुवा बिछुवा सणि आमा बैद का नाती धामदेव का नाती : कलुवा बैद का बिछुवा मसाणि खड़साणि शांसुळीकोट फलदा जुद्ध मा कुमाऊं पर्याणा . गुरु खगदास आलू भट्ट को नाती तालू भट्ट को नाती जलकमल को नाती थल्कमल को नाती लाब्री भोटन्त को नाती गुजरात देस को कालदास मोहन दास कनपणि कालदास खेगदास दुलंचा का बैठण वाला राजा का बाण सुर विक्रम कि नातेण कोटा रग्री कि नातेण शाम्साई कि शार्दूला जने निम् धर्म लगायो बरत सत कयों हरद्वारी फेर लगायो बद्री घांद चढायो
........................क्रमश ......क्रमश ......
Copyright Bhishma Kukreti for commentry

Nagelo Jagar : A Nathpanthi Mantra

ulture of Kumaun and Garhwal
Nagelo Jagar : A Nathpanthi Mantra
नगेलो जागर : एक नाथपंथी मंत्र
(Mantra Tantra in Garhwal , Mantra Tantra in Kumaun, Mantra Tantra in Himalayas )
Presented by Bhishma Kukreti
( Edited by Dr Shiva Nand Nautiyal on the basis of articles of Dr Pitambar Datt Barthwal, Abodh Bandhu Bahuguna and Dr Hari Datt Bhatt Shailesh )
गढवाल कुमाऊँ में नागराजा कृष्ण रूप है यद्यपि नाग देवता वेदों से पहले के देवता हैं . नाग देवता का उल्लेख ऋग्वेद आदि में भी है. गढवाल में नाग वंशियों का भी अधिपत्य रहा है और गढवाली में कई शब्द नागवंशी काल के शब्द मिलते हैं . खस व कोल वंस का नाग वंश के साथ अटूट रिश्ता रहा है
गढवाल कुमाऊं में नाग देवता के जागर लगते हैं और नागराजा नाचते हैं
नागराजा का जागर यद्यपि खड़ी व ब्रिज मिश्रित ( व गढवाली के एक दो शब्द हैं )भाषा में है किन्तु यही समझा जाता है कि यह मंत्र या जागर गढवाली भाषा का है जबकि यह जागर नाथपंथी मंत्र है
ॐ नमो आदेस, गुरु को आदेस ,
प्रथम सुमिरों नादबुद भैरों
द्वितीय सुमिरों ब्रह्मा भैरों ,
तृतीय सुमिरों मछेंद्रनाथ भैरों
मच्छ रूप धरी ल्याओ ,
चतुर्थ सुमिरों चौरंगी नाथ ,
विन्धा उतीर्थ करी ल्यायो .
पंचम सुमिरों पिंगला देवी
षष्ठे सुमिरों श्री गुरु गोरख साईं
सप्तमे सुमिरों चंडिका देवी
या पिंड को छल करी छिद्र करी
भूत प्रेत हर ल़े स्वामी
प्रचंड बाण मारी ल़े स्वामी
सप्रेम सुमिरों नादबुद भैरों
तेरा इस पिंड का ध्यान छोड़ा दे
इस पिण्डा को भूत प्रेत ज्वर उखेल दे स्वामी
फिर सुमिरों दहिका देवी
इस पिंड को दग्ध बाण उखेल दे स्वामी
अब मैं सुमिरों कालिपुत्र कलुवा बीर
गू ल़ो तोई स्वामी गूगल को धूप
कलुवा बीर आग रख पीछ रख
स्वा कोस मू रख , पातळ मू रख
फीलि फेफ्नी को मॉस रख
मूंड कि मुंडारो उखेल
मुंड को जर उखेल
पीठी को स्लको उखेल
कोखी को धमाल उखेल
बार बिथा छतीस बलई तू उखेल रे बाबा
मेरी भक्ति , गुरु कि शक्ति सब साचा
पिण्डा राचा चालो मंत्र , ईस्रोवाच
फॉर मंत्र फट स्वाहा
या बिक्षा आन मि दूसरी बार

B. C. Kukreti

गढ़वाली कविता : त्वै बिन

धार मा की जौन
ऋतू बसंती मौल्यार
बग्वाली की धूम
होली का हुल्करा
थोल-मेलौं -कौथिगौं का ठट्ठा मज्जा
ग्वेरौं का बन्सुल्या गीत
खिल्यां फूल फ़्योंली और बुरांश का
और पन्देरा की बारामसी छुयीं-बत्ता
सबही बैठ्याँ छीं
बौग मारिक
त्वै बिन !

रचनाकार : ( गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित )
स्रोत : म्यार ब्लॉग हिमालय की गोद से ,http://geeteshnegi.blogspot.com

The Burning of Red Chillies in Tantrik Performances

Culture of Kumaun and Garhwal
The Burning of Red Chillies in Tantrik Performances
तंत्रों में लाल मिर्च जलाने का रिवाज
(Mantra tantra in Garhwal, Mantra Tantra in Kumaun , Mantra Tantra in Himalayas )
Bhishma Kukreti
गाँव हो शहर आपको कुछ तन्त्र कार्य में लाल मिर्च जलाने वाले मिल ही जायेंगे
लाल मिर्च जलाने के पीछे भैरव तंत्र के दो सिद्धांत कार्य करते हैं . एक सिधांत है जिसमे भक्त को आती साँस, जाती साँस व स्वास नलिका में वहां जहाँ दोनों साँस मिलती हैं पर ध्यान देने का सिद्धांत है व दूसरा सिधांत छींक पर ध्यान देने का सिद्धांत है
आप भी अनुभव करेंगे कि साँस लेने या साँस छोड़ने के एक एक क्षण पर जब आप सूक्ष्म ध्यान देन तो एक असीम आनन्द प्राप्त होने लगता है .
इसी तरह छींक आने से पहले छींक पर ध्यान दिया जाय (छींक नही आनी चाहिए ) तो एक असीम आनन्द प्राप्त अवश्य होता है
उर्ध्वे प्राणों ह्याधो जीवो विसर्गात्मा पारोषरेत
उत्पति द्वितयस्थाने भरणद्भ्रिता स्तिति: (विज्ञानं भैरव २४ )
Bhairva answered , ' The exhailing breath should ascend and the inhailing breath should descend forming a visarga 9consisting of two points) .Their state of fullness is found by fixing them in the two places of their origin
मरुतोतअन्तवर्हिर्वापी वियद्यगमानिववर्तनात
भैर्व्या भैर्व्स्येत्थ्म भैरवी व्यज्यते वपु : ( विज्ञान भैरव २५
O Bhairavi , by focussing one's awareness on the two voids at the end of the internal and external breath , thereby the glorious form of Bhairav is revealed through Bhairavi
न ब्रजेन विशेच्छक्तिर्म्रूदृपा विकासिते
निर्विक्ल्पत्या मध्ये ट्या भैर्वरूपता ( विज्ञानं भैरव २६ )
The enrgy of breath should neither move out nor enter , when the centre unfolds by the dissolution of thoughts then one attains the nature of Bhairav
क्षुताद्यन्ते भये शोके ग्व्हरे वा रणाद्दृते
क्रित्हले क्षुधाद्यन्ते ब्रह्मसत्ता समीपगा (विज्ञानं भैरव ११८ )
At the begining and end of sneezing , in a state of fear or sorrow on top of an abyss or whole feeling from a battlefield , at the moment of intense curiosity , at the begining or end of hunger such astate comes close to the experience of Brahmana (Bhairav)
तांत्रिक कर्मकांड में मिर्च का धुंवां या घी का धुपण पश्वा को साँस पर ध्यान देने व छींक पर ध्यान देने का एक योग क्रम है
Copyright @ Bhishma Kukreti

Why Does an Aghori Tantrik Use Human Skull for Tantrik Performances ?

Culture of Garhwal and Kumaun
Why Does an Aghori Tantrik Use Human Skull for Tantrik Performances ?
अघोरी तांत्रिक मानव खोपड़ी से तांत्रिक विधान क्यों करते हैं ?
( Mantra Tantra in Kumaun, Mantra Tantra in Garhwal, Mantra Tantra in Himalyan Shrines )
Bhishma Kukreti
यद्यपि कुमाऊं या गढवाल के ग्रामीण इलाकों में अघोरी तांत्रिक नही मिलते हैं किन्तु इस लेखक ने एक बार नयार गंगा संगम - व्यासचट्टी में
बिखोत मेले में मानव खोपड़ी की सहायता से एक स्त्री की छाया पूजते देखा था .
वैसे यह बात आम लोगों हेतु चौंकाने वाला है किन्तु हट्ठ योग या अघोर पंथियों के लिए मानव खोपड़ी एक पूज्य वस्तु है और इस के पीछे विज्ञानं भैरव का निम्न सिद्धांत काम करता है
कपालांतर्मनो न्यस्य तिष्ठन्मीलितलोचन:
क्रमेण मनसो दाध्यार्त लक्षयेल्लक्ष्यमुत्तम (विज्ञानं भैरव , ३४
स्थिरता पुर्बक बैठकर , ऑंखें मूंदकर कपाल के आंतरिक भाग पर ध्यान केन्द्रित करो धीरी धीरे भैरव प्राप्ति हो जायेगी
By fixing one's mind on the inner space of the skull and sitting motionless , with closed eyes , gradually by stablity of mind , one attains Bhairv
Copyright@ Bhishma Kukreti

गढ़वाली कविता : छिल्लू बुझी ग्या

बैइमनौं का राज मा -ईमनदरी कु
भ्रस्टाचरी गौं - समाज मा - धरमचरी कु
मैंहंगई का दौर मा - गरीबौं कु
गल्दारौं का राज मा - वफादरौं कु
ठेकदरौं का राज मा - ध्याड़ी मज्दुरौं कु
प्रधनी की चाह मा - गौं-पंचेतौं कु
अनपढ़ों का राज मा - शिक्षित बेरोज्गरौं कु
और दरोल्यौं का राज मा - पाणि-पन्देरौं कु
छिल्लू बुझी ग्या

रचनाकार : ( गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित )
स्रोत : ( म्यार ब्लॉग हिमालय की गोद से ,http://geeteshnegi.blogspot.com )

Why is a Pahwa Effected by Bhoot Beaten by Kandali or Kingwd's Spikes ?

Culture of Kumaun and Garhwal
Why is a Pahwa Effected by Bhoot Beaten by Kandali or Kingwd's Spikes ?
भूत लगे पश्वा को कण्डाळी (बिछु घास ) या किन्गोड़ा से क्यों झपोड़ा जाता है ?
(Mantra Tantra in Garhwal, Tantra Mantra in Kumaun, Himalayan Mantra and Tantra Literature)
Bhishma Kukreti
प्राय: यह देखा गया है की गढवाल या कुमाऊं के गाँव में जब किसी पर भूत लग जाता है तो झाडखंडी रख्वाळी मंत्र पढ़ते हुए पश्वा को
कण्डाळी के पौधों से झपोड़ता या कभी कभी काँटों भरे किनगोड़ा की डाली से झपोड़ता है. वैसे यह आज अनुचित सा लगता है किन्तु इस तंत्र अनुष्ठान
के पीछे अनुभव किया गया भैरव तन्त्र सूत्र का हाथ है जो इस प्रकार है
किंचिदगं विभिद्द्यादों तीक्ष्ण सूच्यादिना तत:
तत्रैद चेतनां युक्त्वा भैरवे निर्मला गति: (विज्ञान भैरव , भैरव तन्त्र ९३ )
यदि किसी अंग को सुई या किसी तेज नुकीली वस्तु से दबाया जाय और उस जगह व दर्द पर ध्यान दिया जाय तो भैरव स्तिथि //वर्तमान अव्षथा प्राप्त हो जाती है
If any one pierces any limb or part of body with a sharp needle or instrument then by concentrating on that very point one attains the Bhairav state (Vigyan Bhairv 93 )
Copyright @ Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com